18.1 चित्तौड़गढ़ दुर्ग

चित्तौड़गढ़ दुर्ग (Chittodgarh Durga) का इतिहास

चित्तौड़गढ़ दुर्ग का निर्माण किसने करवाया था ?

चित्तौड़गढ़ दुर्ग का निर्माण मौर्यवंशीय राजा चित्रांगद मौर्या ने सातवीं शताब्दी में करवाया था ।

• यह गिरी दुर्ग है ।
• यह गिरी दुर्गों में सबसे प्राचीन है ।
• इसका निर्माण चित्रांगद मौर्य ने (8वीं शताब्दी) में करवाया था ।
• यह बेड़च व गम्भीरी नदियों के संगम पर बना है ।
• यह केवल एक श्रेणी धान्व दुर्ग को छोड़कर सभी श्रेणियों का दुर्ग है ।
• इसको ‘राजस्थान का गौरव’ कहते है ।
• इसको ‘सभी दुर्गों का सिरमौर’ कहते है ।
• इसको ‘दक्षिण का प्रवेश द्वार’ कहते है ।
• इसमें रानी पदमनी व गौरा बादल के महल बने हुए हैं ।
• इसमें जयमल व फत्ता की हवेलियाँ बनी हुई है ।
• इसमें कुम्भा का कुम्भश्याम मन्दिर बना हुआ है ।
• इसमें एक प्राचीन सुर्य मन्दिर है, जो वर्तमान में कालिका माता का मन्दिर कहलाता है ।
• चित्तौड़गढ़ दुर्ग एकमात्र दुर्ग है, जिसमें पहले खेती की जाती थी ।
• इसका आकार व्हेल मछली के समान है ।
• इसमें 27 देवरी स्थित है, जिसे सतविश देवरी कहते है ।
• बनवीर ने इसमें नवलखा भण्डार का निर्माण करवाया, जिसे कोटा महल भी कहते है ।
• इसमें एक खिडकी बनी हुई है, जिसे लाखोटा की बारी कहते हैं ।
• चित्तौडगढ़ दुर्ग सबसे बड़ा लिविंग फोर्ट है ।
• इसमें के बारे में कहावत है गढ़ तो गढ़ चित्तौड़गढ़ बाकी सब गढ़िया ।

क्या आपको पता है ? चित्तौड़गढ़ दुर्ग में कौन-कौनसे स्तम्भ है ।

चित्तौड़गढ़ दुर्ग में विजय स्तम्भ और कीर्ति स्तम्भ है ।

विजय स्तम्भ

• कुम्भा ने चित्तौड़गढ़ दुर्ग में मालवा विजय के उपलक्ष में ‘विजय स्तम्भ’ का निर्माण करवाया ।
• विजय स्तम्भ के उपनाम – जयस्तम्भ, विजय स्तम्भ, विट्री ट्रावर, किर्तिस्तम्भ, विष्णु ध्वज, हिन्दु देवी-देवताओं का अजायबघर, भारतीय मूर्ति कला का विश्व कोष ।
• विजय स्तम्भ का वास्तुकार जैता था ।
• विजय स्तम्भ के मुख्यद्वार पर विष्णु की मूर्ति लगी हुई है ।
• विजय स्तम्भ की ऊँचाई 122 फिट (37 मीटर), सिढ़ियाँ 157 तथा मंजिल 9 है ।
• तीसरी मंजिल पर नौ बार अरबी भाषा में अल्ला लिखा हुआ है ।
• राजस्थान पुलिस का प्रतिक चिन्ह विजय स्तम्भ है ।
• विजय स्तम्भ प्रथम इमारत है, जिस पर डाक टिकट 15 अगस्त 1949 को जारी की गई ।
• विद्वानों ने विजय स्तम्भ को लोक जीवन का रंगमंच कहा है
• कर्नल जेम्स टॉड ने इसे कुतुम्बमीनार से भी बेहतर कहा है ।
• राजस्थान का कुतुम्बमीनार ऊषालाट (भीमलाट) को कहा जाता है ।
• फर्ग्युसन ने विजय स्तम्भ की तुलना रोम में स्थित टार्जन से की ।

कीर्ति स्तम्भ

• क्रीर्ति स्तम्भ प्रसस्ति चित्तौड़गढ़ दुर्ग में है ।
• क्रीर्ति स्तम्भ का निर्माण जैन व्यापारी जीजा ने करवाया ।
• क्रीर्ति स्तम्भ के वास्तुकार अत्रि भट्ट और महेश भट्ट थे ।
• क्रीर्ति स्तम्भ भगवान आदिनाथ को समर्पित है ।

क्या आप जानते है ? चित्तौड़गढ़ दुर्ग में कितने साके हुए ।

चित्तौड़गढ़ दुर्ग में सर्वाधिक तीन साके हुए ।

प्रथम साका

• चित्तौड़गढ़ दुर्ग में प्रथम साका 1303 में अल्लाउद्दीन खिलजी के आक्रमण के कारण हुआ ।
• चित्तौड़गढ़ के शासक रतनसिंह की रानी रानी पद्मनी जौहर ने करके प्रथम साका किया ।
• यह राजस्थान का सबसे बड़ा जौहर था, जिसमें रानी पद्मनी के साथ लगभग 1600 महिलाओं ने जौहर किया ।
• प्रथम साका अग्नि जौहर था ।
• अल्लाउद्दीन खिलजी ने इसका नाम बदलकर खिज्राबाद रखा ।

दूसरा साका

• चित्तौड़गढ़ दुर्ग में दूसरा साका 1534 में गुजरात का शासक बहादुर शाह के आक्रमण के कारण हुआ ।
• चित्तौड़गढ़ के शासक विक्रमादित्य की रानी रानी कर्मावती ने जौहर करके दूसरा साका किया ।

तीसरा साका

• चित्तौड़गढ़ दुर्ग में तीसरा साका 1567-68 में अकबर के आक्रमण के कारण हुआ ।
• चित्तौड़गढ़ के शासक उदयसिंह की रानी फूलकंवर ने जौहर करके तीसरा साका किया ।
• अकबर के आक्रमण के समय चित्तौड़गढ़ की सेना का नेतृत्व जयमल- फत्ता ने किया तथा वीरगति को प्राप्त हुए ।

भैसरोड़गढ़ किस जिले में है ?

भैसरोड़गढ़ चित्तौड़गढ़ जिले में है ?

भैंसरोड़गढ़ दुर्ग (Bhaisrodgarh durg)

• यह चित्तौड़गढ़ में है ।
• यह एक जल दुर्ग है ।
• इसका निर्माण भैसाशाह व रोड़ा चारण ने किया था ।
• भैंसरोड़गढ़ दुर्ग व्यापारियों द्वारा बनाया गया एकमात्र दुर्ग है ।
• यह चम्बल व बामनी नदियों के संगम पर बना है ।
• इसको ‘राजस्थान का वैल्लोर’ भी कहा जाता है ।

राजस्थान के लोक नृत्य,राजस्थान की जनजातियाँ,राजस्थान के आन्दोलन,राजस्थान में 1857 की क्रान्ति,राजस्थान के लोकगीत,राजस्थान की प्राचीन सभ्यता,राजस्थान की देवियाँ,चौहानों का इतिहास,राजस्थान के त्यौहार,राजस्थान की जलवायु,राजस्थान के संभाग,राजस्थान के प्रजामण्डल,राजस्थान के लोक देवता,Rajasthan GK Book,राजस्थान एकीकरण,राजस्थान का भौतिक प्रदेश,राजस्थान का सामान्यज्ञान,राजस्थान का सामान्य परिचय राजस्थान के GK की प्रश्नोत्तरी

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *